TRP क्या होता है TRP कैसे चेक की जाती है

 What is TRP in Hindi?

trp kya hai puri jaankari

आज के समय में गांव हो या शहर सभी के घर में TV है टीवी मनोरंजन का मुख्य साधन बन गया है News, Fashion, TV Serial या फिर cartoon सब टीवी पर ही देखा जाता है जिनमे कुछ चैनल्स फ्री होते है और कुछ paid यानी की पैसे वाले। DD Free dish फ्री में चैनल देता है पर आपको ज्यादा channels देखने को नहीं मिलेंगे।


TRP क्या है? (What is TRP in Hindi)

TRP के बारे में शायद आपने TV पर या social मीडिया पर सुना ही होगा पर आप उसका मतलब जानते है ? यदि नही तो हम आपको इस article में आपको पूरी जानकारी देंगे। TRP का full form है Television Rating Point इसके जरिए टीवी चैनल्स के audience की गिनती की जाती है और उसके अनुसार उस चैनल को TRP की रेटिंग दी जाती है उससे यह पता चलता है की उसे चैनल को कितना देखा जाता है। और टीवी चैनल की ज्यादा इनकम या salary TRP पर निर्भर करती है यदि किसी चैनल को ज्यादा TRP मिली है तो उस चैनल पर ज्यादा महंगे वाले प्रोडक्ट का advertisement किया जाएगा और उसका फायदा चैनल को होता है। और ads वाली कंपनी उन्हें जड़ा पैसा प्रदान करती है। 

आपने न्यूज चैनल के anchor को यह बोलते तो सुना ही होगा की "देश का नंबर वन चैनल हमारा है" इनमे कुछ लोग झूठ बोलते है ताकि आप उन्हे ज्यादा से ज्यादा देखना शुरू कर दे और उनकी सैलरी बनती रहे।


TRP रेटिंग कैसे तय होती है? How TRP Rating Decision taken

TRP की रेटिंग पता करने के लिए एक मीटर जिसे people meter भी कहा जाता है उसे कुछ गिने चुने लोगो के सेटअप बॉक्स में लगाया जाता है और कुछ दिन बाद उसे मेजर किया जाता है की किस किस चैनल को ज्यादा देखा जा रहा है और बाद में government की मीटर टीम द्वारा इसका निर्णय किया जाता है की किस चैनल की टीआरपी ज्यादा है। 


टीआरपी का क्या महत्व है? (TRP Importance in Hindi)

TV चैनलों के लिए TRP का बहुत महत्व है क्योंकि उनकी अधिकतर income उसी पर निर्भर करती है लगभग 70 से 80 प्रतिशत कमाई उनकी TRP द्वारा ही होती है। TRP को देख कर विज्ञापन कंपनी उस चैनलों पर अधिक से अधिक पैसे दे कर अपने प्रोडक्ट का advertisement दिखाते है जिससे ज्यादा लोग उनके प्रोडक्ट को खरीद सके। इसी लिए न्यूज चैनल वाले TRP बढ़ने के लिए हमेशा breaking news में मसाला लगा कर दिखाते है जिस लोगो को उसे देखने में रुचि आए।


TRP टीवी चैनल की इनकम कैसे होती है? Earning from TRP in Hindi

TV देखते समय आपको हर पांच मिनट में आपको ads दिखाए जाते है जिससे उनके ग्राहक उस प्रोडक्ट में रुचि दिखाए और खरीदे। तो जो विज्ञापन कंपनी अपना प्रोडक्ट उनके चैनल पर दिखाती है वही उन चैनलों को पैसे भी देती है TV चैनल वाले जितनी बार आपको विज्ञापन दिखाएंगे वो उतना ज्यादा पैसा उस कंपनी से मांगेंगे। और बार बार उसे देखने से लोगो में उस प्रोडक्ट पर विश्वास हो जाता है और उसका नाम उनके दिमाग में रह जाता है तो मार्केट में वह प्रोडक्ट देखते ही लोग एक बार ट्राई करने के लिए खरीद लेते है बस यही कारण है उनके पैसे कमाने का।


टीवी चैनल टीआरपी कम ज्यादा होने से क्या प्रभाव पड़ता है?

जी हां उनका सीधा असर उनके इनकम पर पड़ता है क्योंकि TRP कम होगी तो उन्हें जड़ा महंगे वाले ads नही मिलेंगे और उनकी कमाई काम हो जायेगी इसी लिए वे लोग TRP को हमेशा ऊपर रखने की कोशिश करते है आप स्वयं सोचिए जिस चैनल को आप नही देखोगे तो उस चैनल को चलाने का खर्चा उसके मैनेजर पर तो पड़ेगा ही।

Post a Comment

0 Comments