Cloud Computing की परिभाषा और उसके प्रकार

Cloud Computing kya hai hindi


Cloud क्या है? What is cloud?

क्लाउड का मतलब है एक प्रकार का सर्वर है जिसे इंटरनेट के द्वारा access किया जाता है और इस पर कई प्रकार के software और database उपलब्ध होते है। Cloud या cloud server डाटा सेंटर में बनाया या जाता है जिसे दुनिया के किसी भी कोने से प्राप्त किया जा सकता है।


Cloud computing Kya hota hai विस्तार में? What is cloud computing in Hindi?

Cloud Computing Technology का उपयोग on – demand सर्विस देने के लिए किया जाता है जिसमें application software से लेकर storage तक प्रदान किया जाता है। Cloud computing meaning आप किसी भी software या application को इंटरनेट द्वारा access कर के उसे इस्तेमाल कर सकते है अपने कंप्यूटर या मोबाइल में इंस्टॉल किए बिना। इस सर्विस को इस्तेमाल करने के लिए आपको pay as you go के अनुसार service चार्ज देना होगा। अर्थात आप जितने समय उनकी सर्विस इस्तेमाल करेंगे उतना आपको पैसे देंगे होंगे।


क्लाउड कंप्यूटिंग को समझने के लिए आपको उसके प्रकार को समझना अति आवश्यक है।

Types of cloud deployment model (क्लाउड डेप्लॉयमेंट मॉडल के प्रकार):

  • Public Cloud
  • Private Cloud
  • Hybrid Cloud
  • Community Cloud


Public Cloud क्या होता है?

इस क्लाउड को public रखा जाता है इसमें कोई भी व्यक्ति enroll या register करके free सर्विस का इस्तेमाल कर सकते है। Public क्लाउड बड़ी - बड़ी आर्गेनाइजेशन द्वारा प्रदान की जाती है जिसमें लोगों को सर्विस चार्जेस नहीं देने पड़ते। इस क्लाउड में लोगों को सीमित services ही प्राप्त होते है। उदाहरण: Gmail, Drive, OneDrive, Docs इत्यादि।


Private Cloud क्या होता है?

Private क्लाउड में लोगों को ज्यादा storage और security प्रदान की जाती है। यह सर्विस केवल वही व्यक्ति इस्तेमाल कर सकता है जिसने उस सर्विस के पैसे दिए होते है। उदाहरण: Google One, Amazon Web Services इत्यादि।


Hybrid Cloud क्या होता है?

इसमें Public और Private cloud दोनों का समावेश होता है जिसमें यूजर उस सर्विस को publically वो privately दोनों तरीके से इस्तेमाल कर सकता है।


Community Cloud क्या होता है?

Community cloud किसी organization या कंपनियों द्वारा अपने employee (कार्यकर्ता) को प्रदान की जाती है। इसमें group ऑफ employee (कार्यकर्ताओं के संगठन) में इस cloud को शेयर या शांझा किया जाता है। किसी प्रोजेक्ट के लिए भी इसे इस्तेमाल किया जाता है। उदाहरण: GitHub


क्लाउड कम्प्यूटिंग की सर्विसेज (Cloud computing services in Hindi):

  • Infrastructure as a Service
  • Platform as a Service
  • Software as a Service


Infrastructure as a Service क्या है?

IaaS यूजर को बड़े पैमाने पे कंप्यूटर resource या material प्रदान करता है जैसे की CPU प्रोसेसिंग पावर, Memory स्टोरेज, Security, Networking जैसे अन्य रिसोर्स available होते है यह एक प्रकार का डाटा सेंटर होता है।


Platform as a Service क्या है?

PaaS यूजर या डेवलपर को एक प्लेटफॉर्म प्रदान करता है जिसपर सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट किया जा सकता है इस पर वेब सर्वर, डाटा सर्वर, SDK software development kit जैसी सारी टेक्नोलॉजी का समावेश होता है जिसका उपयोग डेवलपमेंट में किया जाता है।


Software as a Service क्या है?

SaaS एक application level की service है जिसमें आप ऑनलाइन किसी भी सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल कर सकते है आपको किसी भी सॉफ्टवेयर को अपने कंप्यूटर या मोबाइल में install करने की कोई जरूरत नहीं पड़ती। SaaS का example: Google Docs, Gmail, Online Calculator इत्यादि।


Cloud based storage services

Cloud based storage आपको पर्सनल स्टोरेज space प्रदान करता है जिसमें आप किसी भी प्रकार का data या information रख सकते है और आवश्यकता अनुसार आप जब चाहे तब उसे प्राप्त कर सकते है। यह क्लाउड सर्विस 24x7 घंटे आपको प्रदान की जाती है जिसे आप किसी भी देश से access कर सकते है। इसमें आपको free और paid दोनों पैकेज मिलते है।


कुछ best और popular cloud based storage services company की सूची

  • Azure
  • Google One
  • Amazon Cloud Service
  • Drop Box
  • Apple iCloud
  • Microsoft OneDrive


Cloud computing के उदाहरण (Cloud Computing Examples):

  • Microsoft 365
  • Adobe Creative Cloud
  • ERP/ CRM for Business Process
  • What’s App Web
  • Netflix, Amazon Prime


क्लाउड कम्प्यूटिंग की मुख्य समस्याएं (Risk factor of cloud computing):

Compatibility: किसी भी सिस्टम या सॉफ्टवेयर को local server से cloud पर ले जाते वक्त compatibility issues हो सकते है।

Trust: Trust एक बहुत important फैक्टर है किसी भी यूजर और कस्टमर के लिए।

Confidentiality: Confidentiality(Secret) को बनाए रखने का mechanism होना चाहिए।

Security: सिक्योरिटी अच्छी ना होने पर हैकर्स क्लाउड को एक्सेस कर सकते है और virus फैलने का भी खतरा बढ़ सकता है।

Performance: Performance अच्छा न मिलने पर यूजर को कई दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है।

Data loss: Server में problem आ जाने से कभी - कभी डाटा लॉस होने का डर भी होता है।


Cloud Computing के फायदे और नुकसान (Advantages and Disadvantages of Cloud Computing in Hindi)

Pros and Cons of Cloud Computing:

क्लाउड कम्प्यूटिंग के कुछ फायदे और नुकसान भी है जिन्हें हम इस टॉपिक में discuss करेंगे।

Cloud Computing के लाभ (फायदे) ( Advantages of Cloud Computing):

Infrastructure Cost की बचत: Cloud Computing Technology की वजह से आपका सिस्टम cost बच जाता है। क्लाउड के कारण आपको किसी भी कंप्यूटर या उसके resources खरीदने की जरूरत नहीं पड़ती सारी facility क्लाउड provider दे देता है।

Scalable: आपका सिस्टम Scalable हो सकता है। यदि आपका कोई छोटा organization या कंपनी है और अगर वह भविष्य में top level पर जाता है तो सारा काम उसी क्लाउड पर कर सकते है अलग से किसी क्लाउड या सिस्टम की जरूरत नहीं पड़ेगी।

Mobility: क्योंकि क्लाउड कम्प्यूटिंग इंटरनेट पर होता है इस कारण आप अपने cloud system को जब चाहे जहां चाहे access कर सकते है बिना किसी दिक्कत के।

Easy Collaboration: cloud पर आप आसानी से किसी group या company का collaboration कर सकते है अर्थात दो – तीन ग्रुप या कंपनी एक project पर एकसाथ काम कर सकते है

Defense against disasters: यह disaster से भी बचाता है मतलब यदि आपके क्लाउड सर्वर में आग लग जाती है या भूकंप, बांध के कारण सर्वर खराब हो जाता है फिर भी आपका डाटा बैकअप द्वारा वापस प्राप्त किया जा सकता है।


Cloud computing के नुकसान या हानि (Disadvantages of Cloud Computing):

Limited Controls: Cloud पर आपको limited या कुछ controls ही दिए जाते है इसलिए आप सारी functionality यूज नहीं कर पाएंगे।

Internet Dependent: Cloud computing इंटरनेट पर निर्भर होता है यदि आपके पास इंटरनेट नहीं है या क्लाउड सर्वर पर इंटरनेट issue होगा तो आप उसे access नहीं कर पाएंगे।

Technical Problems: Technical Problem का सामना करना पड़ सकता है अगर सर्वर में छोटे भी technical issues आयेंगे तो।

Lack of Support: अगर आपको क्लाउड में कोई भी problem आता है तो support engineer काफी वक्त लेंगे उसे resolve करने में। और जल्दी response भी नहीं मिलता।

Post a Comment

0 Comments